शिक्षा ऋण

सही शिक्षा के साथ सही
कॅरियर की शुरूआत.

बड़ौदा शिक्षा ऋण
मिस्ड कॉल करे : 846 700 1122

शिक्षा ऋणों के लिए ब्याज अनुदान (सब्सिडी) की केन्द्रीय योजना

भारत सरकार, मानव संसाधन विकास मंत्रालय, उच्च शिक्षण विभाग ने आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग (ईडबल्यूएस) के विद्यार्थियों हेतु भारत में तकनीकी/व्यावसायिक पाठ्यक्रम का अध्ययन करने के लिए शिक्षा ऋण हेतु ब्याज उपदान तैयार की है.

योजना की प्रमुख विशेषताएं निम्नानुसार हैं

  • योजना का नाम “शिक्षा ऋण ब्याज उपदान योजना” होगा, जो विशेष तौर पर भारत में तकनीकी/ व्यावसायिक शिक्षा प्राप्त करने के लिए भारतीय बैंक संघ की शिक्षा ऋण योजना के तहत आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के विद्यार्थियों द्वारा लिए गए शिक्षा ऋण पर अधिस्थगन अवधि हेतु ब्याज उपदान उपलब्ध करवाने के लिए विशेष रूप से बनाई गई है.
  • पाठ्यक्रम की फीस (सब मिलाकर) रु. 10 लाख से ज्यादा हो सकती है परंतु उपदान की राशि की गणना केवल रु. 10 लाख तक की राशि पर की जाएगी.
  • विद्यार्थियों द्वारा बैंक से लिए गए ऋण पर अधिस्थगन अवधि के दौरान सरकार पूरी ब्याज उपदान उपलब्ध करवाएगी. 01.04.2009 के पहले मंजूर किए गए ऋण पर, 01.04.2009 के बाद संवितरित राशि पर ही ब्याज राशि के लिए पात्र होगी.
  • अधिस्थगन अवधि के बाद ब्याज का वहन विद्यार्थी द्वारा किया जाएगा.
  • आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग (सामाजिक पृष्ठभूमि पर नहीं) के विद्यार्थी के अभिभावक की सभी स्रोतों से होने वाली आय प्रतिवर्ष रु. 4.5 लाख से ज्यादा नहीं होनी चाहिए.
  • राज्य सरकार योग्य प्राधिकारी या प्राधिकारियों का निर्धारण करेगी जो इस योजना के उद्देश्य हेतु आर्थिक इंडेक्स के आधार पर न कि सामाजिक पृष्ठभूमि के आधार पर आय प्रमाणपत्र जारी करने में सक्षम होंगे.
  • उपदान उन्हीं विद्यार्थियों के लिए ही उपलब्ध होगी जो भारत में संसद के अधिनियमों द्वारा स्थापित शिक्षण संस्थानों, संबंधित सांविधिक निकायों द्वारा मान्यता प्राप्त अन्य संस्थान, इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट (आईआईएमस्‌) और केंद्र/राज्य सरकार द्वारा स्थापित अन्य संस्थानों में मान्यता प्राप्त तकनीकी/व्यावसायिक पाठ्यक्रम (XII के बाद) में प्रवेश ले रहे हैं.
  • ऋण पर लगाए गए ब्याज दर, हमारी शिक्षा ऋण योजना के तहत लागू ब्याज दरों के अनुरूप होंगे.
  • पात्र विद्यार्थियों को भारत में या तो पहली बार पूर्व स्नातक डिग्री पाठ्यक्रम के लिए या अनुस्नातक डिग्री/डिप्लोमा पाठ्यक्रम के लिए, ब्याज उपदान केवल एक बार ही उपलब्ध होगी. तथापि, ब्याज उपदान संकलित पाठ्यक्रमों (स्नातक + अनुस्नातक) हेतु भी स्वीकार्य होगी.
  • यदि विद्यार्थी पाठ्यक्रम को बीच में छोड़ देता है, अनुशासनात्मक या अकादमिक आधार पर संस्थान से निर्वासित कर दिया जाता है तो उसे उपदान राशि प्राप्त नहीं होगी.
  • विद्यार्थी की डिग्री और मार्कशीट पर उसकी पुनर्भुगतान देयताओं को दर्शाता हुआ टैग/मार्कर होगा. ईलेक्ट्रॉनिक टैग ऋणकर्ता का निर्धारण करने में कर्मचारियों को समर्थ करेगा. योजना के लिए केनरा बैंक नोडल बैंक होगा और केनरा बैंक के साथ विचार-विमर्श करने के बाद निगरानी को अंतिम रूप दिया जाएगा.
  • तकनीकी/व्यावसायिक पाठ्यक्रमों की सूची जिसके लिए योजना लागू होगी, समय-समय पर यूजीसी और एआईसीटीई द्वारा प्रकाशित की जाएगी और वह तुरंत उनकी वेबसाइट पर भी प्रदर्शित की जाएगी, जिसका प्रयोग सत्यापन उद्देश्यों के लिए किया जा सकता है.
  • करार भी विद्यार्थी एवं बैंक द्वारा हस्ताक्षरित किया जाएगा.

अधिक जानकारी के लिए, कृपया हमारी शाखा जहां उन्होंने शिक्षा ऋण प्राप्त किया है, का संपर्क करें.

EMI Calculator

APR Calculator
  • Total Interest
  • Total Amount
Monthly Payment Rs. 1,977.00

Apply Now

अंतिम देखा गया पेज

X
Back to Top