Banner

नामांकन की मुख्य विशेषताएं

नामांकन की प्रमुख विशेषताएं

  • नामांकन उत्तराधिकारी प्रमाणपत्र/वसीयत आदेश-पत्र की आवश्यकता के शीघ्र और आसानी से निधि/वस्तुओं की वापसी संभव हो पाती है.
  • नामांकन की सुविधा चालू खाता, बचत बैंक खाता और सभी प्रकार के आवधिक जमा खातों, सुरक्षित जमा लॉकर्स या सुरक्षित अभिरक्षा में रखी गई वस्तुओं पर उपलब्ध है.
  • नामांकन सुविधा व्यक्तिगत अथवा एकल स्वामित्व फर्म के लिए है. .
  • नामांकन केवल एक ही व्यक्ति के पक्ष में किया जा सकता है. मौजूदा अथवा नए खातों में नामांकन किया जा सकता है और जमाकर्ता द्वारा बाद में निरस्त अथवा परिवर्तित किया जा सकता है.
  • ऐसे खातों, जहां जमा प्रतिनिधि के तौर पर धारित हैं, जैसे न्यास खाते आदि और साझेदारी फर्म एच.यू.एफ., कंपनियों, संगठनों, क्लबों आदि के खातों में नामांकन नहीं किया जा सकता.
  • व्यक्तियों के संयुक्त खाता के मामले में सभी जमाकर्ताओं द्वारा संयुक्त रूप से नामांकन किया जाएगा.
  • नाबालिग खाता धारक के मामले में, जो स्वतः अथवा अन्य द्वारा परिचालित हो, उसमें नाबालिग की ओर से कानून रूप से पात्र व्यक्ति नामांकन कर सकता है.
  • नाबालिग की ओर से नामांकन की अनुमति इस शर्त पर है कि खाताधारक, नामांकन करते समय, किसी और व्यक्ति को, जो नाबालिग न हो, को नामिती की ओर से, जमाकर्ता की मृत्यु पर नामिती के नाबालिग रहने पर जमा राशि प्राप्त करने के लिए नियुक्त करेगा. नाबालिग का जन्म प्रमाणपत्र प्राप्त किया जाए और नोट किया जाए.
  • नामांकन आवधिक जमा के नवीकरण पर भी लागू रहेगा, जब तक उसे विनिर्दिष्ट रूप से निरस्त अथवा परिवर्तित न किया जाय.
  • विनिर्दिष्ट आवधिक जमा के संबंध में मौजूदा नामिती का नाम अन्य जमा प्राप्तियों पर नहीं जोड़ा जाएगा. प्रत्येक जमा प्राप्तियों के लिए अलग नामांकन दिया जाएगा सिवाय उसके जहां नामांकन फार्म आवधिक जमा खाता के संबंध में हो, न कि टीडीआर नंबर के.
  • नामांकन की सुविधा पेंशन जमा के लिए खोले गए बचत बैंक खातों पर भी उपलब्ध है. हालांकि बैंककारी कंपनी (नामांकन) नियम, 1985 पेंशन के बकायों (नामांकन) नियम 1983 से भिन्न है और पेंशन के बकायों की प्राप्ति के लिए उक्त नियमों के अंतर्गत पेंशनर द्वारा दिया गया नामांकन पेंशनर द्वारा जमा खातों पर वैध नहीं होगा. उसके लिए बैंककारी कंपनी (नामांकन) नियम 1985 के अनुरूप यदि पेंशनर नामांकन सुविधा का लाभ लेना चाहता है तो उसे नामांकन अलग से देना होगा.
  • अनिवासी, निवासी खाते में नामिती के रूप में नामांकित किया जा सकता है. अनिवासी नामिती के मामले में, जमाकर्ता(ओं) की मृत्यु के बाद खाता(तों) से प्राप्त राशि उनके एनआरओ खाते में जमा की जाएगी.
  • कृपया नोट करें कि नामांकन वाले एफडीआर/पासबुक/विवरणियां पर ....................... नामांकन दर्ज का उल्‍लेख होगा. (नामिती का नाम कहीं उल्लिखित नहीं किया जाएगा. जब तक कि ग्राहक द्वारा इसके लिए विनिर्दिष्ट रूप से अनुरोध न किया जाए.)

वस्तुओं की सुरक्षित अभिरक्षा

  • नामांकन केवल एक व्यक्ति का ही किया जा सकता है.
  • जहां नामिती नाबालिग है तो ग्राहक नामांकन करते समय ग्राहक की मृत्यु की अवस्‍था में नामिती के नाबालिग रहने पर किसी बालिग व्यक्ति को नामिती की ओर से वस्तुओं की प्राप्ति के लिए नियुक्त करेगा.
  • सुरक्षित अभिरक्षा में रखी वस्‍तुओं के संबंध में नामांकन सुविधा केवल एकल जमाकर्ता के लिए उपलब्‍ध होगी, संयुक्‍त जमाकर्ताओं को नहीं.

सुरक्षित जमा लॉकर्स

  • सुरक्षित जमा लॉकर्स के एकल स्वामित्व के मामले में, केवल एक व्यक्ति के पक्ष में नामांकन किया जा सकता है.
  • जहां दो या अधिक व्यक्तियों द्वारा बैंक से सुरक्षित जमा लॉकर्स किराये पर लिया गया हो, नामांकन एक या एक से अधिक व्यक्तियों के पक्ष में किया जा सकता है.
  • जहां सुरक्षित जमा लॉकर्स नाबालिग के नाम पर लिया गया हो, वहां नाबालिग की ओर से व्‍यवहार करने के लिए कानूनी रुप से पात्र व्यक्ति नामांकन किया जाएगा.
  • किराए पर लिए गए लॉकर की वस्तुओं की डिलीवरी के लिए नाबालिग को नामिती बनाया जा सकता है. बी की धारा 45 जेड ई.

अंतिम देखा गया पेज

X
Back to Top