ऊर्जा किफायती उपयोग की परियोजना को वित्तपोषण की योजना

क्योंकि सबकी
आवश्यकताएं अलग हैं.

आपके सपनों को साकार करने के लिए
प्रस्तुत हैं, ऋण की विविध श्रृंखलाएं.

ऊर्जा किफायती उपयोग की परियोजना को वित्तपोषण की योजना

उद्देश्य

ऊर्जा दक्षता बढ़ाने/ऊर्जा के संरक्षण हेतु उपकरणों, सेवाओं का अर्जन एवं तत्संबंधी उपायों के लिए एसएमई को वित्तपोषण.

बैंक द्वारा वित्तपोषित एसएमई इकाइयां तथा ऐसी इकाइयां, जो अपने खाते बैंक ऑफ़ बड़ौदा में शिफ्ट करना चाहती हैं.

ऋण-सीमा

कुल परियोजना लागत के 75% तक, परंतु अधिकतम रू. 1/- करोड़ (ऋण की कम से कम राशि रू. 5/- लाख).

परियोजना की लागत में निम्नलिखित शामिल हैं

  • उपकरण/सोफ्ट वेयर को प्राप्त करने/परिवर्तित करने/नवीकृत करने की लागत.
  • मौजूदा मशीनरी को परिवर्तित करने की लागत.
  • स्ट्रक्चरल/ले-आऊट परिवर्तन की लागत.
  • ऊर्जा लेखापरीक्षा/परामर्श की लागत.
  • विस्तृत परियोजना रिपोर्ट तैयार करने की लागत.

प्रतिभूति

  • एकल बैंकिंग खातों के लिए: प्रथम प्रभार का सभी अचल आस्तियों पर विस्तार.
  • ऋण से खरीदे गए उपकरणों पर प्रथम प्रभार एवं संपार्श्विक, यदि कोई हो, कुल प्रतिभूति कवरेज 1.25 से कम नहीं होना चाहिए.

आईआरडीए से अनुदान

वर्तमान में आईआरडीए द्वारा रू. 1/- करोड़ एवं कम की परियोजनाओं के लिए ऊर्जा-लेखापरीक्षा की आंशिक लागत हेतु रू. 25,000/- का अनुदान दिया जाता है.

आधार दर+4.00% प्रति वर्ष.

चुकौती

अधिस्थगन की कोई अवधि हो, तो उसके सहित अधिकतम 5 वर्ष.

अंतिम देखा गया पेज

X
Back to Top