वस्त्र उद्योग और जूट उद्योग के लिए टेक्नॉलॉजी उन्नयन फंड योजना

क्योंकि सबकी
आवश्यकताएं अलग हैं.

आपके सपनों को साकार करने के लिए
प्रस्तुत हैं, ऋण की विविध श्रृंखलाएं.

वस्त्र उद्योग और जूट उद्योग के लिए टेक्नॉलॉजी उन्नयन फंड योजना

वस्त्रोद्योग मंत्रालय द्वारा समय -समय पर प्राप्त मार्गनिर्देशों के अनुसार बैंक ऑफ बड़ौदा भारत सरकार की वस्त्रोद्योग और जूट उद्योग के लिए टेक्नॉलॉजी उन्नयन फंड योजना के तहत ऋण मंजूर करता है. योजना के तहत बैंक द्वारा वित्तपोषित मामलों के लिए पात्रता निर्धारित करने और सब्सिडी के वितरण के लिए बैंक ऑफ बड़ौदा नोडल एजेंसी है.

उद्देश्य

वस्त्रोद्योग मंत्रालय द्वारा समय -समय पर प्राप्त मार्गनिर्देशों के अनुसार बैंक ऑफ बड़ौदा भारत सरकार की वस्त्रोद्योग और जूट उद्योग के लिए टेक्नॉलॉजी उन्नयन फंड योजना के तहत ऋण मंजूर करता है. योजना के तहत बैंक द्वारा वित्तपोषित मामलों के लिए पात्रता निर्धारित करने और सब्सिडी के वितरण के लिए बैंक ऑफ बड़ौदा नोडल एजेंसी है.

वस्त्रोद्योग इकाइयों को टेक्नॉलॉजी उन्नयन और उत्पादन सुविधाओं के आधुनिकीकरण हेतु बैंक से लिए गए ऋणें पर बैंक द्वारा लगाए गए सामान्य ब्याज पर5%ब्याज सब्सिडी (स्पिनिंग उद्योग के विषय में 4 प्रतिशत) दी जाने की परिकी योजना है.

योजना के मार्गनिर्देशों के अनुसार टेक्नॉलॉजी के साथ स्थापित नई इकाइयां भी उपरोक्त के लाभ हेतु या लघु उद्योग क्षेत्र के लिए क्रेडिट लिंक्ड पूंजीगत सब्सिडी 15% और यंत्रचालित करघा उद्योग के लिए20% या विशेष रूप से निर्दिष्ट प्रोसेसिंग मशीनरी और कैड, कैम, डिजाइन स्टूडियो इत्यादि के लिए 5% ब्याज प्रतिपूर्ति के साथ 10%पूंजीगत सब्सिडी के लिए पात्र होंगी.

प्री-लूम और पोस्ट-लूम परिचालनों के लिए नई मशीनरी और उपकरण खरीदने, हाथकरघा / हाथकरघों के उन्नयन और हाथकरघा उत्पादन ईकाइयों के लिए परीक्षण तथा गुणवत्ता नियंत्रण हेतु योजना के तहत 25%पूंजीगत सब्सिडी उपलब्ध कराई जाती है.

प्रवर्तक का अंशदान

परियोजना लागत का न्यूनतम 20% .

ऋण की राशि

जरूरत के अनुसार

कार्यक्रम की अवधि

  • योजना 31.03.2012 तक कार्यान्वित की जाएगी.
  • शर्तें लागू

अंतिम देखा गया पेज

X
Back to Top